भारत की मुख्य नदियाँ – महत्वपूर्ण नोट्स – Helpful for MPSI & MPPSC 2019

भारत में नदियाँ

भारत में विश्व की सर्वाधिक नदिया प्रवाहित होती है |

भारत में नदियों को चार भागो में बांटा गया है |

  1. हिमालयी नदियाँ :-

ये नदियाँ हिमालय पर्वत से निकलती है इनमे हिमालय पर्वत पर जमी बर्फ का पानी बहता है |

उदा. – ब्रह्मपुत्र, सतलज, रावी, चिनाव, व्यास, गंगा, यमुना, सिन्धु

इनमे वर्ष भर पानी प्रवाहित होता है |

  1. प्रयद्दीपीय नदिया –

ये भारतीय प्रायदीप में बहने वाली नदिया है | इनमे वर्षा का पानी प्रवाहित होता है |

नर्मदा, गोदावरी, चम्बल, पेंच, ताप्ति, कृष्णा , कावेरी , महानदी , लुन्गभाद्र

  1. तटीय नदिया –

ये तटीय मैदानों में बहने वाली नदिया है | समुद्र तटीय क्षेत्रोँ में

*   पेरियार (केरल )

*   मांडवी (गोवा )

4 अन्त: स्थलीय नदियाँ –

ये नदिया जो स्थल भाग में समा जाती है |

  1. लूसी नदी
  2. घग्गर

लूनी नदी अरावली पर्वत से निकलती है व थर के मरुस्थल में समा जाती है |

भारत की मुख्य नदियों के बारे में जानकारी:—

  1. सिन्धु नदी –

उद्गम स्थल  – तिब्बत के मानसरोवर झील से

अवसान – अरब सागर

ये तीन देशो में बहती है –

चीन (तिब्बत) – भारत  –  पकिस्तान  – आरब सागर

सहायक नदिया  – मुख्य नदी – चिनाव

अन्य नदी – सतलज , रावी, झेलम , व्यास

सिन्धु नदी की लम्बाई – 3200 कि.मी. , भारत में 1114 कि.मी., यह भारतीय उपमहाद्दिप की सबसे लम्बी नदी है |

1960 में भारत के साथ पाकिस्तान के बिच सिन्धु जल समझोता हुआ जिसमे भारत व पकिस्तान के मध्य नदियो के जल का बटवारा किया गया |

यह पकिस्तान में सबसे ज्यादा बहती है |

सतलज, रावी, व्यास, तथा झेलम नदियाँ पाकिस्तान में  चिनाव में मिलती है |

  1. सतलज –

उद्गम  – मानसरोवरझील

अवसान  – पाक में चिनाव नदी में मिलती है

सहायज नदी  – व्यास

व्यास नदी पंजाब में सतलज में मिलती है

सतलज नदी पर पंजाब में बाखडानागल बांध बना हुआ है |

सतलज व व्यास नदी के संगम पर पंजाब में हरिके बांध बना हुआ है जिससे इंदिरा गाँधी नहर निकली गई है |

 

  1. रावि , व्यास, व चिनाव –

उद्गम स्थल –

रवि, व्यास –  हिमाचल के रोहतांग दर्रे से (हिमालय)

चिनाव – हिमाचल के लाहुल दर्रे से

रवि नदी पाकिस्तान में चिनाव में मिलती है | व्यास नदी पंजाब में सतलज में मिलती है | व्यास नदी प्र हिमाचल प्रदेश में पोंग बांध बना हुआ है | पाकिस्तान के सिंधू  नदी में चिनाव नदी मिल जाती है |

 

  1. झेलम

उद्गम स्थल – कश्मीरके बेरीनाग

अवसान – चिनाव नदी

  1. गंगा –

उद्गम स्थल – उत्तराखंड के उत्तर काशी जिले गंगोत्री हिमनद (गोमुख)

यहाँ पर इसका नाम भागीरथ है

देव प्रयाग में भागीरथ नदी में अलकनंदा मिल जाती है , तब इसका नाम गंगा पड़ता है

बिहार मर नदी दो धाराओ में बट जाती  है

एक धारा प. बंगाल में हुगली के नाम से बहती हुई बंगाल की खाड़ी में गिर जाती है |

दूसरी धारा बांग्लादेश में पदमा के नाम से बहती है

पदमा नदी जमुना (ब्रहम्पुत्र) दोनों बांग्लादेश  में मिलती है

ये दोनों नदियाँ बांग्लादेश में ही आगे चलकर मेपना नदी में मिलती है | इसके बाद ये बंगाल की खाड़ी में गिरती है  गंगा नदी की कुल लम्बाई 2525 K.M. (भारत में)

यह भारत की सबसे लम्बी नदी है |

सबसे लम्बी सहायक नदी – जमुना

अन्य सहायक नदियाँ  – सोन, कोसी , गोमती , गण्डक, घाघरा, टोंस ,

तह पांच राज्यों व दो देशो में बहती है – उत्तराखण्ड, उ प्र , बिहार , झारखण्ड, प. बंगाल

भारत – बांग्लादेश

गंगा नदी को राष्ट्रीय नदी घोषित किया गया है |

गंगा नदी को प्रदुषण मुक्त बनाने के लिए 2009 में गंगा विकास प्राधिकरणकी स्थाप्मना की गई है |

इसका अध्यक्ष – प्रधानमंत्री

सदस्य – पांचो राज्यों के मुख्यमंत्री

राष्ट्रीय जलीय जंतु – गंगा डाल्फिन

देव प्रयाग–भागीरथी व् अलकनंदा

कर्ण प्रयाग –पिन्दार व अलकनंदा

रुध्र प्रयाग .-मंदाकनी व अलकनंदा

विष्णु प्रयाग–छोटी गंगा व अलकनंदा

प्रयाग (उ .प्र .)-गंगा ,यमुना ,सरस्वती

5.यमुना 

उद्गम स्थल  -उत्तराखंड के उत्तर कशी जिले के

यमो यमुनोत्तरी हिमनद

अवसान   -इलाहाबाद में गंगा नदी में

सहायक नदी  -चम्बल ,बेतवा ,केन

ये नदी सिर्फ दो राज्यों (उ .प्र .) व् उत्तराखंड में बहती है

  1. ब्रम्हपुत्र नदी :-

उद्गम स्थल – तिब्बत के मानसरोवर झील से (यहाँ पर इसे सान्गापो खा जाता है)

भारत में यह आरुणाचल प्रदेश से प्रवेश करती है| यहाँ इसे दिहंग नाम से जाना जाता है |

असममें सियांग तथा लोहित के मिलने पर इसे ब्रम्हपुत्र कहा गया |

बंगलादेश में इसे जमुना कहा गया |

यह बंगाल की खाड़ी में गंगा के साथ गिरती है |

कुल लम्बाई   2900 km

भारत में   –  916 km

बांग्लादेश में  – 500 km

तिब्बत में  – 1700

सहायक नदियाँ  – सियांग , लोहित ,

इसका प्रवाह क्षेत्र सर्वाधिक है इसलिए इसे भारत की सबसे बड़ी नदी माना जाता है |

राज्य  – आरुणाचल प्रदेश व असम

ब्रम्हपुत्र नदी पर असाम में मर्जाली द्दिप है जो विश्व का सबसे बड़ा दीप है |

असाम का थोक इस नदी को खा जाता है |

हिमालय पर्वत से निकले वाली नदिया – सिन्धु, सतलज . गंगा, यामुना, रावी, व्यास, चिनाव

 

गोदावरी  –

उद्गम स्थल  – महाराष्ट्र के  नासिक से

अवसान – बंगाल की खाड़ी में

यह महाराष्ट्र व तेलंगाना , आंध्रप्रदेशसे होकत बहती है |

इसकी सहायक नदिया – इंद्रावती, वर्धा , वेनगंगा

गोदावरी नदी के तट पर त्रयेबंकेश्वर ज्योतिर्लिंग (नासिक) में स्थित है | यहाँकुम्भका मेला लगता है |

  1. कृष्णा नदी –

उद्गम स्थल – महाराष्ट्र के महाबलेश्वर पर्वत से

अवसान – बंगाल की खाड़ी

यह महाराष्ट्र कर्णाटक तेलंगाना व आंधप्रदेश में बहती है |

इसकी सहायक नदी  – कोयना . तुन्गभद्रा मुसी

  1. कावेरी –

उद्गम स्थल कर्नाटक के ब्रह्मगिरी पर्वत से

अवसान  – बंगाल की खाड़ी

यह कर्णाटक केरल व तमिलनाडु में बहती है |

इसकी सहायक नदियाँ – शारवती , स्पनवती , अमरावती

तमिलनाडू  तथा कर्णाटकके बीच कावेरी जल विवाद बहुत पुराना विवाद है |

 महानदी –

उद्गम स्थल     – छत्तीसगढ़ के सितवा पर्वत से

अवसान – बंगाल की खाड़ी

यह छत्तीसगढ़ तथा उड़ीसा दो राज्यों से होकर बहती है |

इसकी सहायक नदिया – हंसदो नदी , तेल नदी , शिवनाथ

 

साबरमती –

उद्गम स्थल – राजस्थान के अरावली पर्वत

अवसान  – खाम्बात की खाड़ी

यह दो राज्यों राजस्थान तथा गुजरात में बहती है| महात्मा गाँधी द्वरा स्थापित साबरमती आश्रम इस नदी के किनारे अहमदाबाद में स्थित है |

 

माही नदी –

उदगम स्थल – म.प्र. के विन्ध्याचल पर्वत से

अवसान  – खम्बात की खाड़ी

यह म.प्र. राजस्थान व गुजरात तीन राज्यों से बहती ह | इस नदी पर बांसवाडा (राजस्थान) में बजाज सागर बांध बना है | म.प्र. के धार जिले में माहीपरियोजना निर्मित है | कर्क रेखा को दो बार काटती है |

अन्यतथ्य – बंगाल की खाड़ी में गिरने वाली नदी (गंगा , ब्रम्हपुत्र, गोदावरी, कृष्णा, कावेरी) पेन्नार, महानदी

अरब सागर खाम्बात की खाड़ी में गिरने वाली नदिया (नर्मद – ताप्ती – साबरमती – माही – सिन्धु – मांडवी ,)

सिधु व मांडवीअरब सागर में गिरती है|

बंगाल का शोक घनोदर नदी

भिखर का शोक कोसी नदी

असम का शोक ब्रम्हपुत्र नदी

म.प्र. का शोक चम्बल नदी

भारतीय उपमहाद्दिप में बहने वाली लम्बी नदिया –

  1. सिन्धु 2. ब्रम्हपुत्र 3. गंगा 4. सतलज 5. गोदावरी 6. यमुना 7. कृष्णा 8. नर्मदा

सिर्फ भारत में बहने वाली लम्बी नदि – 1.गंगा 2.गोदावरी 3. यमुना 4. कृष्णा 5. नर्मदा

Comments

comments

error: Content is protected !!